फिर से खुद को जगाते हैं,
अनुशासन का डंडा फिर घुमाते हैं,
याद करें उन शूरवीरों को क़ुरबानी,
जिनके कारण हम गणतंत्र दिवस का आनंद उठाते हैं।
गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ।